spot_img

रेण नदी में डूबे छात्र का शव बरामद:ट्यूशन के बाद दोस्तों के साथ चला गया था एनीकट में नहाने, गहराई में जाने से डूबा

Must Read

Acn18.com/सूरजपुर जिले के विश्रामपुर में रेण नदी के एनीकट में सोमवार को डूबे 14 वर्षीय छात्र का शव 21 घंटे के बाद नदी से बरामद कर लिया गया। गोताखोरों की टीम ने मंगलवार सुबह शव को बाहर निकाल लिया। मामला विश्रामपुर थाना क्षेत्र का है।

- Advertisement -

जानकारी के मुताबिक, लखनपुर ब्लॉक के शासकीय हाई स्कूल गुमगरा में पदस्थ ग्राम सिरकोतंगा के रहने वाले शिक्षक रमेश सिंह चौहान अपने बेटे-बेटी की पढ़ाई के लिए पास के सतपता गांव में किराए के मकान में रह रहे हैं। उनका बेटा आयुष सिंह चौहान (14) कार्मेल कान्वेंट स्कूल में कक्षा आठवीं में पढ़ता था। वहीं उनकी बेटी कक्षा 11वीं की छात्रा है। सोमवार को तीज के त्योहार के कारण स्कूल में छुट्टी थी।

गहराई में जाने के कारण गई जान

आयुष सोमवार को दक्ष इंस्टीटयूट में सुबह 7 बजे ट्यूशन पढ़ने के लिए गया था। वहां से 9 बजे वो निकला, लेकिन घर न लौटकर दोस्तों के साथ नहाने के लिए रेण नदी के एनीकट में चला गया। उसके साथ प्रिंस तिर्की (13) और नीलमन खलखो (14) भी एनीकट में नहाने के लिए उतरे। नदी के किनारे तीनों छात्रों ने अपना स्कूल बैग और कपड़े रख दिए। नहाने के दौरान तीनों गहराई में चले गए और डूबने लगे। किसी तरह से प्रिंस और नीलमन ने तो अपनी जान बचाई और किनारे पर आए, लेकिन आयुष बाहर नहीं निकल सका और डूब गया।

दोस्तों ने बचाने की कोशिश की, लेकिन छात्र को नहीं बचा सके

दोनों छात्रों ने उसे बचाने के लिए शोर मचाया, लेकिन उस वक्त वहां कोई नहीं था। भागकर वे वापस सतपता पहुंचे और इसकी सूचना आयुष के परिजनों को दी। छात्र के डूब जाने की खबर मिलने पर परिजनों के होश उड़ गए। वे तुरंत मौके पर पहुंचे। इधर सूचना मिलने पर विश्रामपुर थाना प्रभारी अलरिक लकड़ा पुलिस टीम के साथ मौके पर पहुंचे। स्थानीय गोताखोरों की मदद से नदी में डूबे छात्र की तलाश शुरू की गई।

सोमवार दोपहर करीब 12 बजे सूरजपुर थाना प्रभारी लक्ष्मण सिंह ध्रुव के साथ नगर सेना की आपदा बचाव टीम ने भी मौके पर पहुंचकर नदी में डूबे छात्र आयुष की तलाश शुरू की। शाम साढ़े 5 बजे तक छात्र का पता नहीं चल सका, तो अंधेरा होने के कारण बचाव का काम बंद कर दिया गया।

मंगलवार सुबह परिजनों ने देखा छात्र का शव

मंगलवार सुबह 6 बजे परिजन एनीकट के पास पहुंचे, तो उन्होंने छात्र के शव को नदी में ऊपर तैरता देखा। इसकी सूचना रेस्क्यू टीम को दी गई। सूचना पर गोताखोर रेण एनीकट पर पहुंचे और छात्र के शव को बाहर निकाला। शव को पंचनामा के बाद पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया गया है।

पहले भी नहाने जा चुके थे छात्र

मृत छात्र के दोस्तों ने बताया कि आयुष पहले भी 2-3 बार अपने साथियों के साथ नहाने के लिए एनीकट में जा चुका था। इसकी जानकारी परिजनों को नहीं थी। सोमवार सुबह भी जब आयुष ट्यूशन से घर नहीं लौटा, तो परेशान होकर उसकी मां ने फोन लगाया, लेकिन छात्र ने कॉल नहीं उठाया। छात्र की मां ने ट्यूशन टीचर से संपर्क किया, तो पता चला कि वह 9 बजे ही पढ़कर निकल गया था। परेशान परिजनों को कुछ देर बाद आयुष के नदी में डूब जाने की सूचना मिली।

अवैध रेत उत्खनन से हो गया है गड्ढा

एनीकट के पास ही अवैध रेत उत्खनन के कारण गहरा गड्ढा हो गया है। आशंका है कि नहाने के दौरान वो रेत निकालने के कारण बने गड्ढे में चला गया और डूब गया। छात्र का शव डूबने वाली जगह से कुछ दूरी पर मिला है, जहां पानी अधिक गहरा है। थाना प्रभारी एलरिक लकड़ा ने बताया कि शव को पोस्टमॉर्टम के बाद परिजनों को सौंप दिया जाएगा।

377FansLike
57FollowersFollow
377FansLike
57FollowersFollow
Latest News

*बस्तर संभाग को मलेरिया मुक्त करने हर संभव किया जाएगा प्रयास : स्वास्थ्य मंत्री श्याम बिहारी जायसवाल* *संभाग स्तरीय स्वास्थ्य विभाग की...

Acn18. Comरायपुर/ छत्तीसगढ़ शासन के स्वास्थ्य मंत्री श्री श्याम बिहारी जायसवाल ने बीजापुर जिले के अपने एक दिवसीय प्रवास...

More Articles Like This

- Advertisement -