spot_img

मिले पुराने छात्र, याद आए कॉलेज के दिन,देखिए वीडियो…

Must Read

Acn28.Com/दीपका ग्राम्य भारती विद्यापीठ हरदीबाजार के 1998-99 बैच के Msc छात्रों का पुनर्मिलन समारोह विगत दिनों बिलासपुर में सम्पन्न हुआ। लगभग 21- 22,वर्ष के पश्चात सभी मित्र पुनः मिलकर अति उत्साहित दिखे, सभी ने एक दूसरे से सुख- दुख और जीवन के अनुभव साझा किए। बिलासपुर अग्रसेन चौक पर स्थित होटल ईस्ट पार्क में मित्रों का जमावड़ा सुबह से ही लगने लगा, जहाँ कोरबा, दीपका, रायगढ़, रायपुर, बिलासपुर, उड़ीसा और दिल्ली से भी सभी पुराने मित्रों का आगमन हुआ। कुछ मित्र सपरिवार तो कुछ अकेले ही उक्त समारोह में उपस्थित हुए, जहाँ, स्वादिष्ट भोजन के साथ अनेक मनोरंजक खेलों का आनंद भी पुराने साथियों ने उठाया।जीवन के इस पड़ाव पर आ चुके सभी छात्र अब ज़िम्मेदार गृहस्थ बन चुके हैं। इतने वर्षों बाद अपनी व्यस्ततम दिनचर्या से कुछ फुरसत के पल चुरा कर पुराने यारों संग गाना- गुनगुनाना, नाचना झूमना और हँसी के ठहाकों के बीच सब अपनी परेशानियाँ भूल 1999 के आसपास के कॉलेज के दिनों की यादों की गलियों से मानो टहल आये हों। इस मुलाकात के बहाने यारों ने सभी पुराने साथियों संग नई मधुर यादें भी सँजो ली, जो उन्हें सालों गुदगुदाती रहेंगी। इस कार्यक्रम का विचार सर्वप्रथम मन में लाकर उसे मूर्त रूप देने में काफी समय और प्लानिंग की ज़रूरत थी, जो कि एक बड़ी चुनौती थी, क्योंकि इतने वर्षों में मित्र भारत के विभिन्न स्थानों में बँट गए थे। फिर भी कुछ साहसी और परिश्रमी जोशीले साथियों ने यह चुनौती भरी ज़िम्मेदारी उठायी, जिनमें प्रदीप जायसवाल,कमलेश साव, गोपाल खांडेकर और रमेश चंद्रा का प्रयास मित्रों के बीच विशेष प्रसंशनीय रहा। साथियों का उमंग इस मस्ती भरे दिन की शुरुआत से लेकर अंत तक बराबर बना रहा। इस आयोजन के लिए सभी मित्रों को जोड़ने और कार्यक्रम की पूरी व्यवस्था संभालने वाले दीपका निवासी प्रदीप जायसवाल,टेक्निकल इंस्पेक्टर SECL दीपका ने अंत में सभी साथियों के प्रति आभार प्रदर्शित किया, साथ ही शीघ्र ही दोबारा मिलने का वादा भी किया।कॉलेज के प्राध्यापकों को भी इस समारोह के विषय में जानकर बड़ी प्रसन्नता हुई, उन्होंने छात्रों को शुभकामनाएँ दीं।

- Advertisement -

Latest News

40+ वालों को बूस्टर की जरूरत पहले:ओमिक्रॉन से बचने के लिए भारतीय वैज्ञानिक समूह की सलाह; जिन्हें ज्यादा खतरा, फोकस उन्हीं पर हो

कोरोना के नए वैरिएंट के खतरे के बीच भारत में भी बूस्टर डोज लगाए जाने का प्रस्ताव रखा गया...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -